पटना और हाजीपुर के बीच बने महात्मा गांधी सेतु पर जाम से मुक्ति पाने का दूसरा तरीका ढूंढ लिया गया है. इस सेतु  पर अभी एक ही लेन पर वाहनों का अवागमन हो रहा है. अप और डाउन दोनो साइड की गाडियां सेतु के पश्चिमी लेन से ही आ-जा रही है.जिसके कारण इस पुल पर आये दिन जाम लग रहें है. सेतु के पूर्वी लेन पर अभी काम ही चल रहा है. जिसे पूरा होने में लगभग एक महीने तक का वक्त लग सकता है.

गांधी सेतु का एक ही लेन चालू
हालांकि ऐसी संभावना जताई जा रही है कि मई महिने के अंतिम सप्ताह से यहां पर सारे काम को पूरा कर लिया जाएगा. इसके बाद हाजीपुर से पटना आने वाली गाडियां इसी लेन से आएंगी.
इससे पश्चिमी लेन पर वाहनों का बोझ कम हो जाएगा. तब जाकर सेतु पर जाम की समस्या भी कम हो सकती है.
फिलहाल जाम की समस्या से निजाद पाने के लिए एक और रास्ता निकालने की योजना तैयार की जा रही है.

इस नए रूट पर चल सकतीं हैं पटना हाजीपुर की गाडियां

जिसके तहत पटना और हाजीपुर के बीच चलाई जाने वाली सीटी बसों को गांधी सेतु के अलावा अटल पटल और जेपी सेतु से होकर भी चलाया जा सकता है. यदि पटना से अटल पथ या जेपी सेतु होते हुए हाजीपुर तक बसों का संचालन होता है तो इससे रोजाना इस रूट की यात्रा करने वाले यात्रियों को काफी फायदा पहुंचेगा. जबकि पटना हाजीपुर के बीच यात्रा करने वाले यात्री काम की समस्या से काफी हद तक छुटकारा पाकर अपने कीमती समय को बचा सकेंगे.

10 नई CNG बसें चलेगी

खबरों की माने तो जल्द ही जेपी सेतु के रास्ते पटना से हाजीपुर और सोनपुर के सिटी बसों का परिचालन किया जा सकता है. जेपी सेतु से जुड़ जाने के बाद सिटी बसें अटल पथ पर दौड़ते हुए पटना और हाजीपुर के बीच रफ्तार भरेंगी. ऐसा कहा जा रहा है कि शुरुआत में इस रूट पर CNG से चलने वाली 10 नई बसों का परिचालन किया जाएगा.

पिछले साल बनी थी योजना

BSRTC ने पिछले साल ही अटल पथ पर सिटी बसों के परिचालन की योजना तैयार की थी. अब जल्द ही अटल पथ और जेपी सेतु आपस में जुड़ जाएंगे, यह काम अंतिम चरण में हैं. जिसे मई तक पूरा कर लिया जाएगा. जिसके बाद इस रूट पर सिटी बसों को दौड़ाने का काम शुरू किया जा सकता है.