पटना बिहार की राजधानी है और एक बड़ी आबादी रखता है। गाड़ियों की संख्या बहुतायत है इसलिए आए दिन पटना की सड़कों पर आपको जाम देखने को मिल जाएगा। बीते कुछ सालों में पटना को जाम से मुक्ति दिलाने के लिए बिहार सरकार ने कई ठोस और अहम कदम उठाए हैं। जहां 2005 के पहले पटना में कुछ एक फ्लाईओवर देखे जाते थे। वही अगर आप बिहार के पटना को अब आएंगे तो आपको हर कदम पर लगभग फ्लाईओवर देखने को मिलेगा। इतने फ्लाईओवर के निर्माण के बाद भी पटना में अभी भी जाम से मुक्ति नहीं मिल पाई है। पटना को जाम से मुक्ति दिलाने के लिए बिहार सरकार की पहल से काफी हद तक सफलता तो मिली है परंतु अभी भी इस दिशा में काफी काम करना बाकी है।

जाम से मुक्ति दिलाने के लिए कई फ्लाईओवर एवं अंडर पास का काम जारी

पटना के विभिन्न इलाकों में आपको इन दिनों नए फ्लाईओवर एवं अंडर पास का काम देखने को मिल जाएगा। कई कई सालों के मेहनत के बाद बिहार सरकार की अंडर पास की महत्वकांक्षी परियोजना अब रंग लाने लगी है। बिहार के पटना का पहला अंडरपास बनकर अब तैयार हो गया है। लोहिया पथ चक्र का पहला पेज का काम पूरा हो गया है। अब सर्कुलर रोड पास से एयरपोर्ट, राजभवन, सचिवालय, सीएम हाउस इत्यादि से गाड़ियां सीधे बेली रोड पहुंच सकेगी। ललित भवन अंडर पास से सोमवार के सुबह से गाड़ियों का आवागमन शुरू हो गया।

हड़ताली मोड़ अंडरपास का काम तेजी से चालू

फेज 2 के तहत हड़ताली मोड़ के पास अंडरपास का निर्माण कराया जा रहा है। आईआईटी रुड़की के इंजीनियरों के द्वारा इसका डिजाइन तैयार किया गया है। फेज टू के काम पूरे होने के बाद हड़ताली मोड़ से बोरिंग रोड आने जाने वाले गाड़ियों की दिक्कतें दूर हो जाएगी। यह अंडरपास दरोगा राय पथ से बोरिंग रोड तक जाएगी। इससे जाम की समस्या काफी हद तक खत्म हो जाएगी।

लोहिया पथ चक्र के तीसरे फेज में सचिवालय के पास अंडरपास बनाने की योजना है। यह अंडर पास बनने के बाद बेली रोड के जाम की समस्या पूरी तरह से खत्म हो जाएगी। पुनाइचक के पास प्रस्तावित फ्लाईओवर के बनने के बाद पुनाइचक से सचिवालय आने जाने वाले लोगों के लिए सुविधाएं बढ़ जाएगी।

(ऊपर के चित्र काल्पनिक हैं)