पटना: बिहार घूमने वाले आने वाले पर्यटकों को अब एक बिल्कुल नया ही अनुभव प्राप्त होने वाला है। अगर सब कुछ सही रहा तो बहुत जल्द बिहार आने वाले पर्यटक अपने साथ एक ना भूलने वाली याद को लेकर जाएंगे। जी हां दरअसल बिहार सरकार के पर्यटन विभाग (Bihar Department of Tourism) ने एक ऐसी पहल की है, जिस पर अगर जल्द ही अमलीजामा पहना दिया जाए तो पर्यटकों के लिए बिहार आना एक नया अनुभव होगा। दरअसल बिहार सरकार अपने पर्यटकों के लिए हेलीकॉप्टर सेवा शुरू करने जा रही है। यह सेवा राजधानी पटना के साथ राज्य के कुछ ऐसे पर्यटन क्षेत्रों के लिए होगी, जहां पर पर्यटक कम वक्त में सीधे संपर्क कर सकते हैं। और बाकी वक्त का उपयोग दूसरी जगहों पर घूमने के लिए कर सकते हैं।

बिहार टूरिज्म को बढ़ावा देने की कवायद:

बिहार टूरिज्म को बढ़ावा देने की कवायद (Efforts to Promote Bihar Tourism) हो रही है। दरअसल, बिहार सरकार राजधानी पटना के साथ राजगीर, बाल्मीकि नगर, गया, बोधगया और जमुई के लिए हेलीकॉप्टर सेवा शुरू करने की तैयारी में है। करीब 2 साल पहले इस सेवा को शुरू करने की कवायद की गई थी। जिस पर विभाग को बहुत अच्छा रिस्पांस भी मिला है। हेलीकॉप्टर प्रोवाइड करने वाली कंपनियों के लिए विभाग की तरफ से मानक भी तय किए गए हैं। जो इन मानकों पर खरा उतरेगा, उनको ही यह सुविधा प्राप्त होगी। यह मानक हेलीकॉप्टर की कैपेसिटी, सुरक्षा से लेकर पर्यटकों के लिए किराए तक के लिए हैं।

बिहार में पर्यटकों की संख्या बढ़ी:

विभागीय आंकड़ों को देखें तो बिहार आने वाले पर्यटकों की संख्या में अप्रत्याशित रूप से वृद्धि हुई है। 2020 में 5 लाख से भी ज्यादा विदेशी पर्यटक गया और बोधगया में आए थे। इसके अलावा 2019 में राजगीर में 1.8 लाख और नालंदा में 1.7 लाख विदेशी पर्यटक आए थे। विभाग का यह मानना है कि अगर हेलीकॉप्टर सर्विस पर्यटकों को प्रोवाइड की जाएगी तो वो एक स्ट्रेस फ्री यात्रा कर सकेंगे और 1 दिन में कई लोकेशनों को घूम सकेंगे।

‘हमारा विचार है कि जो भी पर्यटक राज्य में आएं तो और बिहार के जितने भी पर्यटन स्थल चिन्हित किए गए हैं या बना रहे हैं, जैसे राजगीर, गया सीतामढ़ी, गोपालगंज, बाल्मीकि नगर जैसे पर्यटन स्थलों पर पर्यटक आएं। और बिहार से एक नया अनुभव प्राप्त करें, उनको यह लगे कि बिहार में सारी चीजें हैं। हम लोगों ने हेलिकॉप्टर को आमंत्रित किया है। आप आइए और पर्यटक को सहयोग कीजिए। बहुत सारे ऐसे पर्यटक होते हैं, जिनके पास समय का अभाव होता है। उनका वक्त बचे। इसलिए इस सेवा को शुरू करने की पहल की जा रही है। हम लोगों ने प्रस्ताव को आमंत्रित किया है। पर्यटक राजगीर, गया, बोधगया, बांका, बाल्मिकीनगर जैसी जगहों को भी घूम लेंगे।’ – नारायण प्रसाद, पर्यटन मंत्री

पर्यटकों की सुविधा के लिए सरकार की तैयारी:

गौरतलब है कि बिहार में घूमने वाले जगहों की कमी नहीं है। पूरी दुनिया में बिहार का अपना एक अलग स्थान है. यहां हर चीज प्रकृति ने संपूर्ण मात्रा में दिया है। यहां झील, पहाड़, नदियां सब है। यहां जंगल, पहाड़ और नदी तीनों का संगम है। बिहार के पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद (Bihar Tourism Minister Narayan Prasad) ने कहा कि हमारी चाहत है कि पर्यटक ज्यादा से ज्यादा आएं और बिहार से एक नया चीज का अनुभव लेकर जाएं। बिहार के पर्यटन मंत्री ने बताया कि हम भूटान और मॉरीशस तक को अपना संदेश दे रहे हैं। और उनको आमंत्रित भी किया जा रहा है।

बड़ी संख्या में लोग बोधगया आते हैं:

उन्होंने कहा कि मेरी मुलाकात भूटान के लोगों से हुई थी। भूटान से बड़ी संख्या में लोग बोधगया आते हैं। यहां राजधानी पटना के स्थलों के साथ ही केसरिया स्तूप भी है। बांका में ओढ़नी झील है। जहां पर मोटर बोट का आनंद लिया जा सकता है। हाल ही में विभाग की तरफ से निर्मित अमावा झील में पैराशूट का आनंद भी लिया जा सकता है। हमारी कोशिश है कि पर्यटन के क्षेत्र में बिहार देश में नंबर वन पोजीशन पर आ जाए।