हर साल फाल्गुन माह की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी के दिन महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाता है. इस बार महाशिवरात्री मंगलवार 1 मार्च 2022 को पड़ रही है. महाशिवरात्रि का त्योहार भोलेनाथ का सबसे बड़ा त्योहार होता है. इस दिन शिवजी को मात्र जलाभिषेक करने भर से ही आशीर्वाद प्राप्त हो जाता है.महाशिवरात्रि के दिन शिवजी की विशेष पूजा की जाती है और व्रत रखा जाता है. इस दिन चारों पहर भगवान भी पूजा के लिए मंदिरों में भी कपाट खुले रहते हैं. इस साल महाशिवरात्रि और भी खास होने वाली है. क्योंकि इस बार महाशिवरात्रि पर पंचग्रही योग का खास संयोग बन रहा है.

पंचग्रही योग-

पंचग्रही योग में भगवान शिवजी की पूजा करने से भक्तों को उनका आशीर्वाद मिलात है और पूजा का फल प्राप्त होता है. पांच ग्रहों का महासंयोग होने से इस बार शिवरात्रि पर पंचग्रही योग बन रहा है. ज्योतिषों की माने तो ऐसा योग बार बार नहीं बनता है. लेकिन इस बार ये योग मकर राशि के 12 वें भाग में बन रहा है.

5 राशियों के लिए शुभ है पंचग्रही योग-

मेष, वृषभ, मिथुन, सिंह और कर्क राशि के लिए महाशिवरात्रि पर पंचग्रही योग का बनना शुभ माना जा रहा है. इस योग में भगवान शिवजी को शमी के पत्ते और घी अर्पित करने से इन राशि वाले जातकों को भोलेनाथ का आशीर्वाद मिलता है और उनकी हर मनोकामना पूरी होगी.

महाशिवरात्रि पूजा शुभ मुहूर्त-

महाशिवरात्रि पर पूजा के लिए 1 मार्च सुबह 11:47 से 12 :34 मिनट तक अभिजीत मुहूर्त रहेगा. इसके बाद विजय मुहूर्त दोपहर 02:07 से 02:53 मिनट तक रहेगा. शाम के समय गोधूलि मुहूर्त 05:48 से 6:12 मिनट तक रहेगा. इन मुहूर्त में पूजा करना शुभ रहेगा.