पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय का अपना स्थाई कैंपस एवं बिल्डिंग ना होने की वजह से नैक की रेटिंग नहीं मिल पा रही है। मीठापुर में पहले इसका कैंपस तैयार होना था लेकिन जमीन की कमी के कारण अब इसे बख्तियारपुर में बनाने का फैसला लिया गया है। सरकार की ओर से विश्वविद्यालाय बनाए जाने के लिए वहां दस एकड़ जमीन आवंटित की जाएगी। जल्द ही इसकी प्रक्रिया शुरू होगी।

बख्तियारपुर इंजीनियरिंग कॉलेज के पास में होगा निर्माण

बता दें कि बख्तियापुर में इंजीनियरिंग कॉलेज के पास प्रस्तावित भूखंड का स्थल निरीक्षण भी किया गया है। कुलपति प्रो. आरके सिंह ने बताया कि बख्तियापुर में दस एकड़ जमीन आवंटित करने पर सहमति बनी है। विश्वविद्यालय निर्माण के लिए जमीन देने को लेकर उन्होंने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रति आभार जताया। साथ ही उम्मीद भी जताई कि कैबिनेट की मुहर के बाद जल्द ही निर्माण कार्य शुरू होगा।

पहले मीठापुर में होना था निर्माण

2018 में स्थापित इस विश्वविद्यालय के लिए पहले मीठापुर में विश्वविद्यालय के लिए आठ एकड़ जमीन आवंटित की गई थी क्योंकि वहां से बस स्टैंड हटने के बाद काफी जमीन खाली हुई थी। हालांकि मेट्रो निर्माण के चलते प्रस्तावित जमीन घटकर छह एकड़ रह गई। इतने छोटे भूखंड पर विश्वविद्यालय भवन बनाने में दिक्कत आ रही थी। इसी कारण बख्तियारपुर में जमीन आवंटित की गई है। मीठापुर में ही चिकित्सा विश्वविद्यालय और इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय के भवन का निर्माण होना है। चिकित्सा विश्वविद्यालय के लिए अधिक जमीन की जरूरत है।