पटना विश्वविद्यालय (पीयू) में अब हाईटेक सुविधाएं मिलेंगी. कैंपस में प्रशासनिक और शैक्षणिक ब्लॉक तैयार किए जाएंगे, जो अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस होंगे. पटना विश्वविद्यालय के कुलपति गिरीश कुमार चौधरी ने बताया कि यूनिवर्सिटी परिसर के विकास के लिए बिहार सरकार ने अनुदान मंजूर किया है. कैंपस में 88 करोड़ रुपये की लागत से जी+11 शैक्षणिक ब्लॉक तैयार किया जाएगा. इसके अलावा 58 करोड़ की लागत से जी+9 प्रशासनिक ब्लॉक का निर्माण होगा. दोनों ब्लॉक का निर्माण पांच एकड़ भूमि पर होगा. बिहार एजुकेशनल इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन की ओर से वीसी लॉज और कृष्णा घाट के बीच दोनों ब्लॉक का निर्माण किया जाएगा.

गिरीश कुमार चौधरी ने बताया कि प्रशासनिक ब्लॉक में विश्वविद्यालय का मुख्य कार्यालय स्थापित किया जाएगा. इसके अलावा डीन, प्लेसमेंट सेल, आईटी सेल, अनुसंधान केंद्र, मूल्यांकन केंद्र और सभागार के कार्यालय भी होंगे. यहां दरभंगा हाउस परिसर में स्थित सभी स्नातकोत्तर विभागों को समायोजित किया जाएगा. उन्होंने बताया कि यूनिवर्सिटी की वाणिज्य शाखा को परिसर में शिफ्ट किया जाएगा. इसके अलावा सरकार ने व्हीलर सीनेट हाउस के नवीनीकरण के लिए भी 2.84 करोड़ रुपये मंजूर किए हैं.

उन्होंने कहा कि पटना कॉलेज और पटना साइंस कॉलेज के साथ यूनिवर्सिटी कैंपस में वाई-फाई जोन बन जाएगा. इसके लिए केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की ओर से 8 करोड़ रुपये स्वीकृत हुए हैं. पीयू विकास अधिकारी परिमल कुमार खान ने बताया कि यूनिवर्सिटी कैंपस में जल्द ही हाईकेट अनुसंधान केंद्र स्थापित होगा, जो 10,812 वर्ग फुट के क्षेत्र में निर्मित होने वाले जी+2 भवन में रखा जाएगा. इसके अलावा एक इंटरनेशनल हॉस्टल भी बनाया जाएगा. पटना साइंस कॉलेज के मैदान में 5.5 करोड़ रुपये की लागत से निर्माण कराया जाएगा. यहां प्रयोगशालाओं, डेटा सेंटर, कॉन्फ्रेंस हॉल, फैकल्टी रूम, स्टोर और कैफेटेरिया भी बनाए जाएंगे.