बिहार पंचायत चुनाव में पटना से सटे खुसरूपुर प्रखंड के हरदास बीघा पंचायत की 21 वर्ष की नीतू कुमारी मुखिया बनी है। बीए फाइनल वर्ष की छात्रा नीतू ने अपने प्रतिद्वंदी उम्मीदवार को 2000 से अधिक वोटों से हराया। नीतू कुमारी ने सबसे कम उम्र के प्रत्याशी और सबसे अधिक वोटों के अंतर से जीतने वाले उम्मीदवार का रिकॉर्ड अपने नाम कर दिया। नीतू हरदास बीघा पंचायत के नया टोला निवासी पप्पू यादव की बहू है।

कुछ दिन पहले हुई है शादी

नीतू की शादी को अभी कुछ ही दिन हुए हैं और वे गृहस्थ जीवन के साथ-साथ राजनीतिक जीवन में भी तालमेल बिठाकर काम करने की इच्छा रखती है। नहीं तूने अभी ग्रेजुएशन भी पूरा नहीं किया है। उन्होंने बीए फाइनल का एग्जाम दिया है। बीए का एग्जाम देने वाले नीतू सबसे कम उम्र के प्रत्याशी हैं लेकिन प्रखंड में उन्होंने सबसे अधिक मतों से चुनाव जीतने का रिकॉर्ड बनाया है।

मीडिया ने जब नवनिर्वाचित मुखिया नीतू कुमारी से बात की और अपने क्षेत्र की जनता के लिए उनके क्या विचार हैं ये जानना चाहा तो मुखिया नीतू कुमारी ने कहा कि वो बीए फाइनल की परीक्षा दे चुकी हैं और आगे उच्च शिक्षा के साथ-साथ लॉ करना चाहती हैं। नीतू कुमारी का ये भी कहना है कि वो मुखिया के पद पर सफल होने के बाद विधायक का भी चुनाव लड़ना चाहती है।

सबसे कम उम्र की मुखिया बने नीतू

सुपर प्रखंड में पंचायत चुनाव के नतीजे एक ओर जहां सभी को चौंका दिया है वहीं दूसरी ओर हरदास बीघा पंचायत की मुखिया प्रत्याशी नीतू कुमारी ने सबसे कम उम्र की प्रत्याशी और सबसे अधिक वोटों के अंतर से जीतने वाले उम्मीदवार का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है। नीतू हरदास बीघा पंचायत के नया टोला निवासी पप्पू यादव की बहू है।