बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में ₹6 के प्लास्टिक कचरा से ₹70 का पेट्रोल डीजल बनाया जा रहा है। राजस्व और भूमि सुधार मंत्री रामसूरत राय ने मुजफ्फरपुर के कुढ़नी के खिरौना में मंगलवार को प्लास्टिक और कचरा से पेट्रोल- डीजल बनाने वाली इकाई का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्हें प्लांट में तैयार 10 लीटर डीजल की खरीदारी भी की। इकाई में प्रतिदिन 200 किलो प्लास्टिक कचरा से डेढ़ सौ लीटर डीजल और 130 लीटर पेट्रोल तैयार होगा। इकाई नगर निगम से ₹6 प्रति किलो की दर से प्लास्टिक कचरा की खरीद करेगी।

इकाई के संचालक आशुतोष मंगलम ने बताया कि सबसे पहला कचरा का ब्यूटेन में परिवर्तित किया जाएगा। प्रोसेस के बाद ब्यूटेन को आइसोऑक्टेन में बदला जाएगा। इसके बाद अलग-अलग प्रेशर तापमान से आइसोऑक्टेन को डीजल और पेट्रोल में परिवर्तित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि 400 डिग्री सेल्सियस तापमान पर डीजल और 800 डिग्री सेल्सियस तापमान पर पेट्रोल का उत्पादन होगा। उन्होंने बताया कि देहरादून स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ पेट्रोलियम की ओर से डीजल और पेट्रोल का ट्रायल किया जा चुका है। ट्रायल सफल रहा है। इस पूरी प्रक्रिया में 8 घंटे तक का समय लगता है

किसानों और नगर निगम को मिलेगा ₹70 में पेट्रोल डीजल

जानकारी के मुताबिक इकाई में तैयार होने वाला पेट्रोल और डीजल की आपूर्ति किसानों के अलावा मुजफ्फरपुर नगर निगम को होगी। इकाई ₹70 लीटर की दर से पेट्रोल और डीजल की आपूर्ति करेगी। वही पहले दिन 40 किलो प्लास्टिक से 37 लीटर डीजल तैयार की गई। इकाई के संचालक ने बताया कि नगर निगम से प्लास्टिक उपलब्ध होगी। इसके बदले इकाई नगर निगम को डीजल और पेट्रोल ₹70 में उपलब्ध कराएगा।

इस मौके पर मंत्री रामसूरत राय ने कहा कि इस इकाई से कचरा प्रबंधन में मदद मिलेगी। प्लास्टिक कचरा का सबसे बेहतर इस्तेमाल हो सकता है। इकाई द्वारा उत्पादन बढ़ाए जाने पर फैक्ट्रियों को भी डीजल उपलब्ध कराया जा सकेगा। पूर्व विधायक विजेंद्र चौधरी ने कहा कि यह सराहनीय पहल है। स्थानीय युवाओं ने अपनी प्रतिभा से अलग तरी के का प्लांट स्थापित किया है।