अगर आप सच्ची मेहनत करना जानते हैं और आपकी दूरदृष्टि मजबूत है तो आप जिंदगी में सफलता हासिल कर ही लेते हैं. ऐसी ही कहानी है यूपी के बांदा जिले के एक छोटे से गांव के रहने वाले प्रभात ओझा की है. जिन्होंने अपनी मेहनत के दम पर साइंटिस्ट बनने तक का सफर तय किया है ना सिर्फ साइंटिस्ट बनने तक का सफर तय किया. बल्कि एक अच्छी खासी स्पेस कंपनी में नौकरी भी हासिल की है. प्रभात ओझा ने कड़ी मेहनत और जुनून के दम पर साइंटिस्ट बनने की परीक्षा को पास किया है और इलाके में अब इनकी ही चर्चा हो रही है बता दें, इनका राष्ट्रीय विज्ञान केंद्र सूचना और प्रौद्योगिकी भारत सरकार यानी (NIC IT) में चयन हुआ है.

44 वी रैंक हासिल कर बने साइंटिस्ट

वैज्ञानिक बी के तौर पर इन्हें एक साइंटिस्ट के तौर पर लिया गया है. बचपन से ही मेधावी छात्र रहे प्रभात ओझा ने इस परीक्षा में 44 वी रैंक हासिल की है. इसके बाद हर कोई इनकी मेहनत का कायल हो गया है. वाकई उन्होंने दिखा दिया है कि मेहनत के दम पर कितना भी बड़ा मकाम हासिल किया जा सकता है. जो इन्होंने हासिल किया है. प्रभात ओझा के घरवाले बताते हैं इन्होंने 10 वीं 12 वीं परीक्षा में अच्छे खासे नंबर हासिल किए थे. इसके बाद इन्होंने बी टेक की पढ़ाई की और बीटेक के बाद गेट का एग्जाम क्वालीफाई किया. इसके बाद इन्होंने साइंटिस्ट बनने की तैयारी शुरू कर दी और अब हम खुश हैं. हमारे बेटे ने साइंटिस्ट बनने का सपना पूरा कर लिया है.

आईआईटी गुवाहाटी से करी पढ़ाई

बता दें, प्रभात ओझा ने आईआईटी गुवाहाटी से पढ़ाई पूरी की हुई है और कुछ समय के लिए इन्होंने रेलवे में भी नौकरी करी थी. आईआईटी से पढ़ने के बाद इन्होंने रेलवे में नौकरी की और साल 2020 में साइंटिस्ट बनने की परीक्षा को दिया था. जिसमें अब इनको सफलता हासिल हो चुकी है. इस सफलता से प्रभात ओझा तो खुश है ही साथ ही इलाके में भी खुशी का माहौल है. वहीं इनके माता-पिता का सीना गर्व से चौड़ा हो गया है.