पटना. चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने सक्रिय राजनीति में आने का संकेत देकर बिहार की राजनीति को गरमा दिया है। प्रशांत किशोर ने राजनीतिक दल का गठन करने से पहले प्रदेश में जन सुराज अभियान चलाने का ऐलान किया है। साथ ही उन्‍होंने विकास और प्रदेश में काम होने के मुद्दे पर नीतीश सरकार को भी आड़े हाथ लिया। प्रशांत किशोर ने कहा था कि बिहार में पिछले 15 वर्षों में कोई काम नहीं हुआ। इस बाबत जब मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार से सवाल किया गया तो उन्‍होंने चौंकाने वाला जवाब दिया। सीएम नीतीश ने कहा कि कौन क्‍या बोलता है, इसका कोई महत्‍व नहीं है। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि महत्‍व सत्‍य का है कि बिहार में कितना काम हुआ है।

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार शुक्रवार को प्रदेश की राजधानी पटना में एक कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे थे इस दौरान उनसे प्रशांत किशोर के बयान पर प्रतिक्रिया मांगी गई थी। सीएम नीतीश ने कहा, ‘कौन क्‍या बोलता है, इसका कोई महत्‍व नहीं है। महत्‍व सत्‍य का है कि कितना काम हुआ है। मैं इन सब बातों का जवाब नहीं देता. आपलोग ही जवाब दे दीजिए कि क्‍या काम हुआ है।’ बता दें कि प्रशांत किशोर ने गुरुवार को कहा था कि लालू समर्थक सामाजिक न्‍याय की बात करते हैं और नीतीश समर्थक न्‍याय के साथ विकास का दावा करते हैं। उन्‍होंने आगे कहा था कि हकीकत यह है कि पिछले 30 वर्षों में बिहार पिछड़ा राज्‍य ही बना रहा।

CAA पर कही बड़ी बात
मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने CAA पर भी बड़ा बयान दिया है। दरअसल, गृहमंत्री अमित शाह ने CAA लागू करने की बात कही है। इस पर सीएम नीतीश ने कहा कि जो भी केंद्र का निर्णय होगा उसे देखा जाएगा। सीएम ने बताया कि अभी उन्‍होंने ऐसा कोई प्रस्‍ताव नहीं देखा है। जब इस बाबत कोई प्रस्‍ताव लाया जाएगा, तब देखा जाएगा। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने आगे कहा कि फिलहाल हमारा पूरा ध्‍यान कोरोना से लोगों को बचाने पर है। कोरोना वायरस का संक्रमण एक बार फिर से बढ़ने लगा है।