राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का पटना दौरा समाप्त हो गया। वे तीन दिवसीय बिहार दौरे पर आए थे और शुक्रवार को अपनी यात्रा समाप्त कर वापस दिल्ली लौट गए। अपनी यात्रा के अंतिम दिन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पटना रेलवे स्टेशन स्थित महावीर मंदिर पहुंचे जहां उन्होंने पूजा अर्चना की। राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार रामनाथ कोविंद पटना महावीर मंदिर पहुंचे थे। हालांकि इससे पहले हुए जब बिहार के राज्यपाल थे तब वे कई बार महावीर मंदिर में दर्शन कर चुके थे।

राष्ट्रपति शुक्रवार की सुबह करीब 9:00 बजे महावीर मंदिर पहुंचे और लगभग 20 मिनट तक मंदिर में रुक कर पूजा अर्चना की। इस दौरान आचार्य किशोर कुणाल पटना महावीर मंदिर में मौजूद रहे। उन्होंने ही राष्ट्रपति की पूजा भी करवाई । महावीर मंदिर में चढ़ने वाले प्रसाद नैवेद्यम भी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने भगवान पर चढ़ाया । राष्ट्रपति ने आचार्य किशोर कुणाल से अयोध्या में महावीर मंदिर ट्रस्ट के द्वारा चलाए जा रहे हैं राम रसोई की भी चर्चा की।

मंदिर के पूर्वी प्रवेश द्वार पर महावीर मंदिर न्यास के सचिव आचार्य किशोर कुणाल ने राष्ट्रपति को गुलाब का फूल भेंट कर स्वागत किया। राष्ट्रपति की पत्नी सविता कोविंद और बेटी स्वाति का स्वागत महावीर मंदिर न्यास की ट्रस्टी महाश्वेता महारथी ने किया। मंदिर में कदम रखते हैं रामनाथ कोविंद ने आचार्य किशोर कुणाल से कहा पहले से बहुत विकास हुआ है। बहुत अच्छा लग रहा है मंदिर।

अपनी धर्मपत्नी को दिखाते हुए उन्होंने कहा, सामने से महावीर मंदिर लिखा हुआ कितना सुंदर लग रहा है। गर्भ गृह के सामने पहुंचकर रामनाथ कोविंद ने हनुमान जी के दोनों विग्रहों का दर्शन करते हुए अपनी पत्नी से कहा यह मनोकामना मंदिर है। यहां सच्चे दिल से जो भी मांगो वह मनोकामना पूरी हो जाती है। यह देश का एकमात्र मंदिर है जहां हनुमान जी के दो विग्रह हैं एक मनोकामना पूरन, दूसरा संकटहरण।

रामनाथ कोविंद ने अयोध्या में महावीर मंदिर की राम रसोई की चर्चा करते हुए कहा कि अयोध्या में ऐसा अब तक किसी संस्था ने नहीं किया। अयोध्या दौरे पर लोगों ने उन्हें राम रसोई के बारे में बताया कि हजारों राम भक्त प्रतिदिन निशुल्क स्वादिष्ट भोजन करते हैं पूरा स्टाफ आचार्य किशोर कुणाल ने उन्हें बताया कि अयोध्या में महावीर मंदिर की ओर से राघव आरोग्य मंदिर अस्पताल बनाने की प्रक्रिया चल रही है।