हमारे भारत में मन्दिर, स्टेशन, मस्जिद, दरगाह के सामने अक्सर हम भीख मांगते हुए लोगों को देखते हैं। अक्सर भीख मांगने वाले लोग आर्थिक वर्ग से कमजोर होते हैं या कम पढ़े लिखे होते हैं। लेकिन क्या आप लोग एक ऐसे इंसान को जानते हैं जो पढे लिखे हों, अपने कैरियर में पूरी तरह सेट हों। पर गरीब बच्चों के पढ़ाई को स्कूल खोलने के लिए लोकल ट्रेन में हर रोज़ भीख मांगकर 1 करोड़ रुपया जमा किया। आज ऐसे ही एक शख्श के बारे में आपको रूबरू कराने जा रहे हैं, नाम है उनका संदीप देसाई।

कौन हैं संदीप देसाई

प्रोफेसर संदीप देसाई जाने माने संस्थान S.P JAIN MANAGEMENT कॉलेज में प्रोफेसर हैं। समाज सेवा में रुचि रखने वाले संदीप ने कुछ ऐसा कर दिखाया है जो काबिले तारीफ है। प्राइवेट कंपनी में वाइस प्रेसिडेंट रह चुके संदीप ने अपने करियर की शुरुआत मैरीन इंजीनियरिंग के तौर पर की थी। लेकिन इनकी इच्छा थी कि वो गरीब बच्चों की शिक्षा में मदद करें।

एक कार्यक्रम के दौरान संदीप देसाई ने बताया कि जब उन्होंने नौकरी छोड़ गरीब बच्चों के लिए संस्था की शुरुआत करना चाहा तो उन्हें पैसे की जरूरत थी ऐसे में उन्होंने लगभग 200 से भी अधिक कारपोरेट कंपनियों से मदद मांगने की कोशिश की लेकिन नाकामयाब रहे। तब उनके मन में ख्याल आया कि लोकल ट्रेन में चल रहे यात्रियों से पैसे की मदद ली जाए।

लोकल ट्रेन में घूम घूम कर बच्चों के लिए मांगा चंदा

लोकल ट्रेन में मदद देने की शुरुआत करने का अनुभव शेयर करते हुए संदीप ने बताया कि जब वह पहली बार एक ट्रेन में मदद की लेने के उद्देश्य से चढ़े तो तीन-चार स्टेशन गुजर जाने तक उनकी हिम्मत नहीं हुई लोगों से पैसे मांगने की। इसके बाद जब उन्होंने किसी तरह से हिम्मत जुटाई और शुरू करना चाहा तो सबसे पहले तीन चार लड़के उनकी मदद के लिए आगे आए। इनमें से एक लड़के ने यह कहते हुए ₹2 इनके हाथ में दिए कि 1 दिन गुटखा कम खा लेंगे, लेकिन पढ़ाई के लिए मदद करने से पीछे नहीं हटेंगे।

इस तरह ट्रेन में भीख मांग मांग कर संदीप देसाई ने एक करोड़ से भी अधिक की रकम एकत्रित की और संस्था की शुरुआत की। आज संदीप जिस संस्था का संचालन कर रहे हैं उसकी कीमत दो करोड़ से भी अधिक की है और अभिनेता सलमान खान ने भी इस संस्था में मदद की है।