इंवेस्टर्स मीट में बिहार को टेक्सटाइल, लॉजिस्टिक्स, सीमेंट समेत कई सेक्टर में निवेश प्रस्ताव मिले हैं। केवेंटर्स एग्रो ने 600 करोड़ तो जेआईएस ग्रुप ने 300 करोड़ के निवेश का एलान किया। केवेंटर्स एग्रो के चैयरमैन और एमडी मयंक जालान ने कहा- एक इंवेस्टर को हमेशा दो चीजें चाहिए। एक निवेश की सुरक्षा और दूसरा ग्रोथ की संभावना। आज बिहार में दोनों चीजें उपलब्ध हैं। बिहार औद्योगिक नीति भी भविष्य को देखकर बनाई गई है और प्रोत्साहित करने वाली है।

बिहार में गुड गर्वऩेंस है। केवेंटर्स एग्रो बिहार में लॉजिस्टिक्स सेक्टर में करीब 600 करोड़ का निवेश करेगा। जेआईएस ग्रुप के ज्वाइंट मैनेजिंग डायरेक्टर हरनजीत सिंह ने भी लॉजिस्टिक्स सेक्टर में 300 करोड़ निवेश की घोषणा की। टीटी लिमिटेड के एमडी संजय कुमार जैन ने भी कहा कि वे भी बिहार में निवेश करेंगे और एक साल के भीतर यहां उत्पादन भी शुरू हो जाएगा।

.

बंगाल के उद्योगपति भी बिहार को अपना दूसरा घर समझें : शाहनवाज

उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन ने उद्योगपतियों और कंपनी के प्रतिनिधियों से कहा कि बंगाल और बिहार का पुराना नाता और लगाव है। जैसे बिहार के लोग पश्चिम बंगाल को अपना दूसरा घर समझते हैं उसी तरह पश्चिम बंगाल के उद्योगपति भी बिहार को अपना दूसरा घर समझें। चाहे नई औद्योगिक ईकाइयों की स्थापना हो या मौजूदा उद्योग का विस्तार-दोनों बिहार में करें।

मंत्री ने भरोसा दिया कि हम खुद चलकर उद्योगपतियों के दरवाजे तक जा रहे हैं और हम जो कहेंगे, वो करेंगे। बिहार में निवेश किसी हाल में उनके लिए घाटे का सौदा नहीं होगा। मंत्री ने कहा कि बिहार में उद्योगों की स्थापना के लिए 2900 एकड़ का लैंड बैंक है। 73 औद्योगिक क्षेत्र पूरी सुविधाओं के साथ तैयार किए जा रहे हैं। बिहार और आसपास के राज्यों के कुल 7 एयरपोर्ट्स बिहार के हर जिले को बेहतरीन हवाई कनेक्टिविटी उपलब्ध कराते हैं।