पटना: बिहार विधान परिषद चुनाव (Bihar Legislative Council Election) में नवादा से चुनाव जीतने वाले निर्दलीय विधान पार्षद अशोक यादव (Independent MLC Ashok Yadav) ने अपने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात कर आरजेडी खेमे की चिंता बढ़ा दी है। पूर्व आरजेडी विधायक राजबल्लभ यादव के भतीजे अशोक यादव के आरजेडी में जाने की चर्चा है। इसको लेकर उनकी नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव और पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी से भी भेंट हुई है लेकिन उसके तुरंत बाद उनका जेडीयू खेमे में जाकर सीएम से मुलाकात ने राजनीतिक गलियारों में अटकलों का बाजार गर्म कर दिया है।

अशोक यादव ने नीतीश कुमार से मुलाकात की:

नवनिर्वाचित एमएलसी अशोक यादव ने सोमवार को पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की (Ashok Yadav Met Nitish Kumar) है। इस दौरान बिहार सरकार के ऊर्जा मंत्री विजेंद्र यादव और जेडीयू अध्यक्ष ललन सिंह भी वहां मौजूद थे। सीएम समेत जेडीयू के बड़े नेताओं से मुलाकात के बाद उनके जेडीयू में शामिल होने को लेकर अटकलें तेज हो गई हैं। हालांकि खुद अशोक ने इस बारे में अभी तक पत्ते नहीं खोले हैं।

चाचा राजबल्लभ यादव लेंगे फैसला‘:

हालांकि चुनाव में जीत के बाद जब उनके भविष्य को लेकर सवाल किया गया था तो अशोक यादव ने दो टूक कहा था कि उनके भविष्य को लेकर कोई भी फैसला चाचा राजबल्लभ यादव ही करेंगे। राजबल्लभ फिलहाल दुष्कर्म मामले में जेल में बंद हैं। पत्नी विभा देवी नवादा से आरजेडी की विधायक हैं। ऐसे में ये माना जा रहा है कि अशोक भी आरजेडी ज्वाइन कर सकते हैं।

टिकट नहीं मिलने पर आरजेडी से बगावत:

आपको बता दें कि आरजेडी से टिकट नहीं मिलने पर अशोक यादव ने बगावत करते हुए निर्दलीय चुनाव लड़ा था, जिसमें उन्हें जीत मिली। निर्दलीय चुनाव लड़ने के कारण आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष ने उन्हें छह सालों के लिए पार्टी से निलंबित कर दिया था। चुनाव जीतने के बाद लोगों का लग रहा था कि उनकी घर वापसी होगी लेकिन सीएम से मुलाकात के बाद कयासों का दौर निकल पड़ा है।