पटना. JDU के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्र में JDU कोटा से मंत्री आरसीपी सिंह को लेकर बिहार की सियासत बेहद गर्म है। दरअसल, सवाल है कि RCP सिंह फिर से राज्यसभा जाएंगे या नहीं, JDU उन्हें फिर से राज्यसभा जाने का मौका देगी या नहीं। गौरतलब है कि JDU के बड़े नेताओं से जब इस बाबत पूछा जा रहा है तो उनके टालमटोल वाले जवाब से मामला और पेचीदा होता जा रहा है। लेकिन इस बीच दिल्ली से पटना लौटने के बाद RCP सिंह ने पत्रकारों के सवाल के जो जवाब दिए, उसने मामले को और रोचक बना दिया।

बता दें कि गुरुवार को RCP सिंह के पटना पहुंचते ही पत्रकारों ने उनसे सवालों की झड़ी लगा दी, लेकिन RCP सिंह ने बेहद आराम से चेहरे पर मुस्कान लिए जवाब देते रहे। उनकी यह बॉडी लैंग्वेज कुछ और ही इशारा करती है। आरसीपी सिंह से यह पूछने पर कि क्या JDU में सब ठीकठाक है, खबर है कि JDU में दो गुट बन गया है, उन्होंने दृढ़तापूर्वक कहा कि JDU में सब कुछ ठीक था, ठीक है और ठीक रहेगा। JDU में एक ही विचारधारा है और वह है गांधी, लोहिया और जयप्रकाश की। हमसब के नेता नीतीश कुमार हैं और ठीक क्या होता है जी, घर-परिवार में सब कोई एक साथ रहते हैं, सब ठीक है।

‘नाराज करना स्वभाव नहीं’

केंद्रीय मंत्री बनाए जाने के बाद JDU में नाराजगी के सवाल पर सिंह ने कहा मेरी किसी से कोई नाराजगी नहीं है। अच्छा आप ही बताइए, कौन नाराज हो सकते हैं? नीतीश बाबू के साथ मैं 25 साल से हूं, ललन बाबू के साथ भी उतने ही साल से हूं। सब तो मेरे शुभचिंतक ही हैं, मुझसे क्यों नाराजगी होगी। मेरा स्वभाव ही नहीं है किसी को नाराज करने का।

‘नकारात्मक क्यों सोचूं’

राज्यसभा में भेजे जाने के सवाल पर आरसीपी सिंह ने कहा कि ये तो पार्टी तय करेगी। मुझे जहां भी काम मिलता है, मैं अच्छे से करता हूं। संगठन हो, पार्टी का काम हो या सरकार का काम – जो भी काम है ईमानदारी से करता हूं। मैं बहुत सकारात्मक सोच रखता हूं। क्यों नकारात्मक सोचूं। मै सभी कार्यकर्ताओं से कहता हूं कि सकारात्मक सोच रखो, कभी तकलीफ नहीं होगी।