पटनाः बिहार में सरकार बदलने के बाद से ही महागठबंधन में उथल-पुथल मची हुई है. हाल के राजनीतिक घटनाक्रमों को देखकर आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह के पद से इस्तीफा देने की संभावना बढ़ (Jagdanad Singh Reaction on Resignation) गई है. यहां तक की पार्टी सूत्रों के अनुसार उनका विकल्प भी तैयार कर लिया गया है. इन सब कयासों के बीच एक अंग्रेजी अखबार ने उनसे इंटरव्यू में उनके इस्तीफे को लेकर सवाल पूछा तो उन्होंने इस पर कुछ भी बोलने से मना कर दिया. उन्होंने कहा कि अभी वह अपने गांव में हैं और आराम कर रहे हैं. इन सब मुद्दों पर उन्हें कोई बात नहीं करनी है.

जगदानंद सिंह को लेकर असमंजस बरकरार :

जगदानंद सिंह के आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष पद से इस्तीफा दिए जाने की चर्चा गर्म है, हालांकि इसकी पुष्टि कोई नहीं कर रहा है. लेकिन इतना साफ माना जा रहा है कि जगदानंद सिंह के लिए अब पार्टी में स्थित सहज नहीं है.नीतीश के मंत्रिमंडल से सुधाकर सिंह के इस्तीफे के बाद जगदानंद सिंह नाराज चल रहे हैं. दिल्ली में राजद की दो दिवसीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में जगदानंद सिंह के नहीं पहुंचने को लेकर अब तरह-तरह के कयास लगाए जाने लगे हैं. कहा तो यहां तक जा रहा है कि आरजेडी में सिंह का अध्याय समाप्ति की ओर है. हालांकि सुधाकर सिंह पहुंचे थे. इस दौरान पत्रकारों से सवाल के जवाब में उन्होंने कहा था कि वे कार्यकर्ता की हैसियत से यहां हैं.

शिवचंद्र राम का नाम विकल्प के रूप में आ रहा सामनेः

आरजेडी के वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह पिछले कुछ दिनों से नाराज चल रहे हैं. न तो पार्टी दफ्तर आते हैं और न ही दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय कार्यकारिणी और राष्ट्रीय परिषद की बैठक में शामिल हुए. सियासी हलकों में चर्चा है कि उन्होंने अपने इस्तीफे की पेशकश भी की है. हालांकि उनको मनाने की काफी कोशिश हुई लेकिन वो नहीं माने. ऐसे में खबर है कि सिंगापुर निकलने से ठीक पहले लालू ने शिवचंद्र को बुलाकार जिम्मेदारी संभालने के लिए तैयार रहने को कह दिया है. खुद आरजेडी अध्यक्ष ने उनको मिलने बुलाया था. दिल्ली में मीसा भारती के आवास पर दोनों के बीच हुई लंबी बातचीत के बाद अब ये तय हो गया है कि शिवचंद्र राम को जगदानंद सिंह की जगह बिहार आरजेडी की कमान सौंपी जाएगी.