पटनाः बोचहां विधानसभा सीट पर होने वाले उप चुनाव को लेकर एनडीए में बवाल मच गया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) की पार्टी जनता दल यूनाइटेड अब खुलकर मुकेश सहनी (Mukesh Sahani) के समर्थन में उतर गई है। जेडीयू के राष्ट्रीय संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने सोमवार को कहा कि बोचहां विधानसभा सीट एनडीए में वीआईपी पार्टी की थी। इस सीट पर उपचुनाव हो रहा है इसलिए वीआईपी को ही यह सीट एनडीए से मिलना चाहिए थी।

कुशवाहा ने कहा कि बीजेपी ने यहां अपना प्रत्याशी उतार दिया है यह गलत है। एनडीए के किसी भी दल से बीजेपी ने यह निर्णय लेने से पहले बातचीत नहीं की। डायरेक्ट अपने उम्मीदवार के नाम का एलान कर दिया।एनडीए में बीजेपी, जेडीयू, वीआईपी और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा है। कोई भी बड़ा निर्णय लेने से पहले बीजेपी को सहयोगी दलों से बातचीत करनी चाहिए। बीजेपी और वीआईपी के बीच विवाद चल रहा है उसको खत्म करना जरूरी है। जेडीयू एनडीए का अहम दल है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जेडीयू से हैं। वीआईपी प्रमुख मुकेश सहनी से बीजेपी अपना विवाद सुलझा ले नहीं तो जेडीयू मध्यस्थता करेगी।

यूपी चुनाव के बाद से बीजेपी है नाराज

बता दें बिहार में बोचहां विधानसभा सीट पर उपचुनाव होना है। एनडीए में शामिल वीआईपी के विधायक मुसाफिर पासवान के निधन से उपचुनाव हो रहा है लेकिन एनडीए से बीजेपी उपचुनाव लड़ रही है। बेबी कुमारी को प्रत्याशी बनाया है। उपचुनाव के लिए यह सीट बीजेपी ने वीआईपी को नहीं दी है। ऐसा इसलिए बीजेपी ने किया क्योंकि बीजेपी के मना करने के बावजूद वीआईपी प्रमुख मुकेश सहनी उत्तर प्रदेश में 53 सीटों पर चुनाव लड़े थे।

दो महीने के अंदर मुकेश सहनी के एमएलसी का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। उसके बाद उनका मंत्री पद भी जा सकता है। अब उपेंद्र कुशवाहा ने नाराजगी व्यक्त की है। उनके बयान से साफ दिखा कि जेडीयू वीआईपी प्रमुख मुकेश सहनी के समर्थन में है। मांझी की पार्टी भी सहनी के समर्थन में है।