पटना: बिहार में जारी सियासी उथल-पुथल के बीच सोमवार को आरजेडी (RJD) के वरिष्ठ नेता श्याम रजक (Shyam Rajak) लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) के अध्यक्ष सह सांसद चिराग पासवान (Chirag Paswan) से मिलने उनके आवास पर पहुंचे। दोनों काफी देर तक बंद कमरे में लंबी बातचीत करते रहे। मुलाकात के बाद आवास से बाहर आए श्याम रजक ने पत्रकारों से बातचीत की। इस दौरान उन्होंने कहा कि 12 जनपथ स्थित बंगले को जिस तरह से खाली कराया गया है, वो गलत है।

मुलाकात के कारण पर साधी चुप्पी

आरजेडी नेता ने कहा, ” दिवंगत नेता रामविलास पासवान की प्रतिमा पर पैर रखकर जिस तरह बर्बरता पूर्ण रवैया अपनाया गया है, उससे हम लोग मर्माहत हैं।” हालांकि, जब उनसे चिराग से मिलने आने का कारण पूछा गया तो उन्होंने चुप्पी साध ली। केवल इतना ही कहा कि जो भी हुआ है, बीजेपी के इशारे पर हुआ है।दिल्ली में बीजेपी की सरकार है। इस बात को चिराग पासवान भी समझ रहे हैं।

2024 में साथ आने का किया दावा

वहीं, जब उनसे पूछा गया कि क्या बोचहां विधानसभा में होने वाले उपचुनाव में चिराग पासवान उनके पक्ष में प्रचार करने जा सकते हैं, तो श्याम रजक ने कुछ भी बोलने से इनकार किया। आरजेडी नेता ने केवल इतना कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में वे सभी एक साथ मिलकर पूरी तैयारी के साथ एनडीए को हराने का काम करेंगे।

इधर, दोनों नेताओं के मुलाकात से संबंध में चिराग की पार्टी के प्रवक्ता राजेश भट्ट ने कहा कि जिस तरह से रामविलास पासवान के बंगले को तहस-नहस किया गया है, इससे सभी दलित नेता मर्माहत हैं और एकजुट होकर दलित के हक की लड़ाई लड़ने का काम कर रहे हैं। आरजेडी से गठबंधन पर उन्होंने कहा कि अभी कुछ भी कहना जल्दबाजी होगा।