पटनाः आरजेडी (RJD) की ओर से 22 अप्रैल को इफ्तार का आयोजन किया जाना है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने सभी रोजेदार भाइयों और बहनों से गुजारिश कर कहा है कि वे दावत कबूल कर इसमें शिरकत करें। इधर तेजस्वी के पोस्ट के बाद बीजेपी के साथ-साथ जेडीयू ने भी हमला बोला है। तो वहीं आरजेडी ने भी पलटकर सबको जवाब दिया है।

दरअसल, आमंत्रण पत्र में सिर्फ लालू परिवार का फोटो है। तेजस्वी यादव और तेजप्रताप यादव टोपी भी पहने हैं। इसी को लेकर मुख्य रूप से राजनीति हो रही है। जेडीयू के वरिष्ठ नेता और एमएलसी नीरज कुमार ने आरोप लगाया है कि केंद्रीय रेल मंत्री रहते लालू यादव ने अपनी पत्नी के साथ मिलकर बिहार के गोपालगंज के सेलार कला में हैदर अली नाम के एक मुस्लिम व्यक्ति से उसकी जमीन ले ली। तेजस्वी और तेज प्रताप के नाम पर हैदर अली से जमीन लिखवा ली। बदले में हैदर अली को रेलवे में नौकरी दिला दी। इस दौरान जमीन के कागज भी नीरज कुमार ने दिखाए।

तेजस्वी खान रख लेना चाहिए नाम: बीजेपी

बीजेपी प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि तेजस्वी को सत्ता पाने की बेचैनी है। मुस्लिम टोपी पहन आमंत्रण पत्र जारी कर रहे। अब उनको अपना नाम तेजस्वी यादव से तेजस्वी खान रख लेना चाहिए। जिस तरह वह इफ्तार पार्टी दे रहे उस तरह उनको हिन्दुओं के पर्व में भी भोज व अन्य कार्यक्रम का आयोजन करना चाहिए।हिन्दुओं के पर्व से उनको परहेज क्यों रहता है?

इधर बीजेपी की ओर से तेजस्वी यादव को लेकर दिए गए बयान पर एमएलसी नीरज कुमार ने कहा कि दावत ए इफ्तार करने का सबको अधिकार है। इस देश की संस्कृति यही है की कोई भी आदमी, नेता व राजनीतिक दल कोई भी पर्व मना सकते हैं। बीजेपी को इसपर सवाल नहीं उठाना चाहिए। बीजेपी के मुख्तार अब्बास नकवी, शाहनवाज हुसैन भी इफ्तार पार्टी का आयोजन करते हैं।

उन्होंने कहा कि आरजेडी के आमंत्रण पत्र में लालू, राबड़ी, तेजस्वी, तेज प्रताप की तस्वीर है। तेजस्वी कहते हैं की आरजेडी ए टू जेड की पार्टी है लेकिन आमंत्रण पत्र में बहन मीसा भारती, आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह, अब्दुल बारी सिद्दीकी और अन्य नेताओं की तस्वीर नहीं है। यह परिवार वाद का उदाहरण है। यह पार्टी लालू परिवार तक सीमित है।

आरजेडी ने क्या कहा?

आरजेडी के वरिष्ठ नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी ने कहा कि शाहनवाज हुसैन, सुशील कुमार मोदी इफ्तार का आयोजन करते हैं। इससे क्या बीजेपी को दिक्कत नहीं है। तेजस्वी यादव इफ्तार पार्टी कर भाईचारा का संदेश दे रहे हैं। यह देश की संस्कृति है। बीजेपी के नेता अनाप शनाप बयानबाजी न करें। बिहार में छठ, दुर्गा पूजा हिंदू मुस्लिम मिलकर मनाते हैं। जहां तक निमंत्रण पत्र की बात है तो उसमें लालू राबड़ी तेज प्रताप तेजस्वी की तस्वीर है। हम लोगों की तस्वीर नहीं है इससे हमलोगो को दिक्कत नहीं है।