पटना. बिहार की राजधानी स्मार्ट सिटी परियोजना में शामिल है। ऐसे में नित नए प्रोजेक्ट की कार्ययोजना तैयार हो रही है और उसे जमीन पर उतारा भी जा रहा है। इसी क्रम में कई फ्लाइओवर, मेट्रो परियोजना, नमामि गंगे प्रोजेक्ट के तहत ड्रेनेज कार्य व कई अंडरग्राउंड पाथ वे व फुटओवर ब्रिजों के निर्माण को लेकर या तो योजना आगे बढ़ चुकी है या फिर उसे जमीन पर उतारने की कवायद जारी है। इसी क्रम में पटना में बढ़ रही आबादी के साथ शहर में गाड़ियों की बढ़ती संख्या के कारण पार्किंग की समस्या बड़ी हो गई है। पटना में पार्किंग की सही व्यवस्था न होने से अधिकतर रूट पर ट्रैफिक जाम की समस्या बनी रहती है। इसी के मद्देनजर नीतीश सरकार ने पटना में पार्किंग की समस्या से निजात दिलाने की योजना तैयार कर ली है। बिहार सरकार राजधानी में 38 जगहों पर स्मार्ट पार्किंग बनाने जा रही है।

बता दें कि वर्तमान में पटना में कई जगहों पर पार्किंग शुल्क नहीं देना पड़ता है, लेकिन स्मार्ट पार्किंग हो जाने के बाद पहले की तुलना में पार्किंग टिकट का चार्ज ज्यादा हो जाएगा। हालांकि, बढ़े पार्किंग शुल्क के साथ सुविधाएं भी बढ़ने का दावा किया जा रहा है। मिली जानकारी के अनुसार पटना में प्रस्तावित स्मार्ट पार्किंग में सीसीटीवी, मोबाइल चार्जिंग, ऑनलाइन बुकिंग और टॉयलेट जैसी तमाम सुविधाएं रहेंगी।

गौरतलब है कि पटना में चार पहिया वाहनों को पार्क करने का शुल्क 25 से 30 रुपए है। वहीं स्मार्ट पार्किंग में इसके लिए 40 से 50 रुपए देने पड़ सकते हैं। जबकि मोटरसाइकिल पार्क करने के लिए 5 से 10 रुपए के बजाय स्मार्ट पार्किंग में 20 से 25 रुपए देने हो सकते हैं। यहां यह बता दें कि पार्किंग शुल्क का अभी निर्धारण नहीं किया गया है, लेकिन इस संबंध में विमर्श की प्रक्रिया जारी है।

बहरहाल, यहां यह बता दें कि पटना के जिन 38 जगहों पर स्मार्ट पार्क बनना है, उनमें सहदेव महतो मार्ग, श्रीकृष्णापुरी पार्क के निकट, पुल निर्माण निगम कार्यालय के पास, विद्युत भवन के सामने, डाकबंगला चौराहा (मारुति शोरूम के नजदीक), पेसू और पीएचईडी दफ्तर के नजदीक, ईको पार्क (2 और 3 नंबर गेट के सामने), हड़ताली मोड़ से बोरिंग रोड चौराहा, पटना वीमेंस कॉलेज से लेकर माउंट कार्मेल स्कूल तक शामिल है।

इसके अतिरिक्त महावीर मंदिर के सामने, महाराजा कामेश्वर कॉम्प्लेक्स के सामने, मौर्यालोक कॉम्प्लेक्स, बीएन कॉलेज, अशोक राजपथ, पटना व्यवहार न्यायालय (हनुमान मंदिर के सामने), काली मंदिर के पास, ट्रांसपोर्ट नगर (ट्रक स्टैंड), बैंक ऑफ बड़ौदा के पास, मुन्ना चौक से कुम्हरार टोली तक, सेंट्रल स्कूल से राजेंद्रनगर ओवरब्रिज तक, कदमकुआं मार्केट सहित 38 जगहों को चिन्हित किया गया है।