पटनाः बिहार में शराबबंदी कानून के तहत पुलिस तंत्र लगातार कार्रवाई कर रहा है। अब तो नए-नए तकनीक की मदद से शराब माफियाओं पर नकेल कसा जा रहा है। पकड़े जाने पर माफियाओं पर कार्रवाई की जा रही है। शराबबंदी के पांच साल पूरा होने पर कार्रवाई की लेखा-जोखा देते हुए बिहार सरकार के निबंधन, उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग के मंत्री सुनील कुमार (Liquor Prohibition Department Minister Sunil Kumar) ने बताया कि सूबे में अब तक 230 अधिकारियों को बर्खास्त (Action on officers under Liquor prohibition law) किया जा चुका है।

मद्य निषेध मंत्री ने कहा कि कानून सबके लिए बराबर है। मंत्री ने कहा कि महिलाएं शराब धंधे में अपवाद में पकड़ीं गयीं हैं, क्योंकि जितनी गिरफ्तारियां हुईं, उसमें पांच फीसदी भी महिलाएं नहीं हैं, अधिकांश पुरुष शराब धंधे में लिप्त पाये गये हैं। प्रदेश में अब तक 215 पुलिस अधिकारियों और जवानों को बर्खास्त किया गया है, वहीं उत्पाद विभाग के भी 15 अफसर बर्खास्त हुए हैं।

कई अधिकारियों पर प्रोसिडिंग चल रही है, चाहे वो अपने राज्य के हों या राज्य के बाहर के, कार्रवाई में सरकार ने कोई कमी नहीं छोड़ा है। सुनील कुमार ने आगे बताते हुए कहा कि शराब धंधे को रोकने के लिए बिहार के दियारा इलाकों में अभी 17 ड्रोन से नजर रखी जा रही है। हाल के दिनों में ड्रोन की मदद से पुलिस को काफी सफलता हाथ लगी है। वहीं, पड़ोसी राज्यों से बिहार में शराब की तस्करी नहीं हो सके, इसके लिए सभी सीमाओं पर ट्रक स्कैनर मशीन लगाये जायेंगे। इसकी मदद से दूसरे राज्यों से बड़ी गाड़ियों में पहुंचने वाली शराब की खेप को आसानी से पकड़ा जा सकेगा।