पटना: परीक्षा को लेकर चुटकुले (jokes about exam) आम हैं। आज कल सोशल मीडिया पर इस प्रकार के चुटकुलों की बाढ़ सी रहती है। यहां हम जो बताने जा रहे हैं, वह भले ही आपको चुटकुला लगे लेकिन यह सच्चाई है। ग्रेजुएशन पार्ट थ्री की कॉपियों में पास कराने के लिए परीक्षार्थियों ने अजब-गजब बातें लिखी हैं जिसे पढ़कर आप लोटपोट हो जायेंगे। कई परीक्षार्थियों ने अजीब गुजारिश की (Strange requests from students) है। एक परीक्षार्थी ने लिखा है, ‘प्लीज पास कर दीजिएगा। कॉल मी सर, अर्थशास्त्र की बाकी बातें फोन पर होंगी’।

बता दें कि बाबासाहेब भीमराव आंबेडकर बिहार विश्वविद्यालय (Babasaheb Bhimrao Ambedkar Bihar University) में पार्ट थ्री की कॉपियां को जांचने का काम इन दिनों चल रहा है। उम्मीद जतायी जा रही है कि मार्च के दूसरे सप्ताह में पार्ट थ्री के नतीजे घोषित होंगे। कॉपी जांचने का काम काफी तेजी से चल रहा है। परीक्षा विभाग के मुताबिक, आधी से ज्यादा कॉपियां जांची जा चुकी हैं। इस बार 55 हजार परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे। कॉपियां जांचने का काम खत्म होते ही रिजल्ट बनाने की तैयारी शुरू हो जाएगी।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक परीक्षक बताते हैं, ‘इस बार की कॉपियां जांचने के दौरान यह बात समझ में आती है कि कोरोना महामारी ने शिक्षा को बुरी तरह प्रभावित किया है। कॉपियों में जवाब बेहद गलत मिल रहे हैं। जो इशारा कर रहे हैं कि विद्यार्थियों ने पढ़ाई ठीक से नहीं की है। कई कॉपियों में परीक्षार्थियों ने इस बाबत अलग से नोट भी लिखा है।’

कोई लिखता है कि वह कोरोना की चपेट में आ गया था। इस वजह से पढ़ाई नहीं कर सका। कृपया कॉपी जांचते समय इसका ख्याल रखा जाए। परीक्षक ने बताया कि ऐसी ही एक दूसरी कॉपी में एक छात्र ने लिखा था, ‘सर, हमारी पढ़ाई ऑनलाइन हो रही थी और स्मार्ट फोन घर में नहीं होने के कारण हम पढ़ नहीं सकें, पास कर दीजिएगा। इसी रिजल्ट पर मेरा भविष्य टिका है।’

इसी परीक्षक ने बताया कि एक कॉपी में एक छात्र ने आधे-अधूरे जवाब लिखे थे लेकिन अपना मोबाइल नंबर बड़े अक्षरों में लिखा था। अर्थशास्त्र की इस कॉपी में अपने फोन नंबर के साथ उस छात्र ने लिखा था, ‘प्लीज पास कर दीजिएगा। कॉल मी सर, अर्थशास्त्र की बाकी बातें फोन पर होंगी’। परीक्षक कहते हैं कि संभव है कि कई बच्चे वाकई कोरोना से प्रभावित हुए होंगे। कई बच्चों के पास स्मार्ट फोन नहीं होंगे लेकिन अब उनकी कॉपियों में हम क्या कर सकते हैं?