आईएएस भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है और इस परीक्षा को पास करने के लिए विद्यार्थी दिन-रात कड़ी मेहनत और परिश्रम करते हैं। इस परीक्षा को पास करने के लिए हर साल लाखों विद्यार्थी परीक्षा में बैठते हैं लेकिन कुछ भी लोग इस परीक्षा को पास कर पाते हैं।

हम आज आपको बताने वाले हैं उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के एक ऐसे लड़के के बारे में जिसने अपने परिश्रम से बिना कोचिंग के ही इस परीक्षा में सफलता हासिल की। हम आज आपको बताने वाले हैं उत्तर प्रदेश के आदर्श शुक्ला का बारे में जिन्होंने यूपीएससी की परीक्षा में 149 वी रैंक हासिल किया है।

मात्र 21 साल की आयु में क्रैक किया UPSC-

आदर्श शुक्ला उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले के रहने वाले हैं। आदर्श के पिता एक निजी कंपनी में काम करते हैं और उनकी मां गृहिणी है। उनकी बहन पीसीएस की तैयारी करती है। इस साल उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत से यूपी ऐसे जैसे परीक्षा में सफलता हासिल किया है।

आदर्श के पिता ने कहा की ‘मैं साल 1993 में गांव से शहर चला आया था और तमाम तकलीफों और आर्थिक संकटों के बावजूद आदर्श को समस्याओं से दूर रखा और पढ़ाई के लिए घर में बेहतर माहौल दिया, जिससे बेटे का सपना पूरा कर सका।

माता पिता को दिया श्रेय-आदर्श ने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता और परिवार को दिया। आदर्श का कहना है कि यह सबसे कठिन परीक्षा में अच्छे नंबर लाने के लिए आपको कड़ी मेहनत करने की आवश्यकता है। धैर्य के साथ तैयारी करना बहुत आवश्यक है तभी आप इस परीक्षा में सफलता हासिल कर पाएंगे ।

आदर्श ने बताया कि वह 7 से 8 घंटे रोज नियमित रूप से पढ़ाई करते थे जिसके कारण वह आज IAS जैसे परीक्षा में सफल हो पाए हैं। आदर्श हाई स्कूल टॉपर रहे हैं और साथ ही साथ 12वीं की परीक्षा में उन्होंने 94.5% अंक के साथ जिले में पहला स्थान लाया था।