अपने बयानों को लेकर मीडिया की सुर्खियों में रहने वाली बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत एक बार फिर से मीडिया के साथ ही राजनीतिक गलियारों में चर्चा के केंद्र में हैं। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कंगना को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि ऐसे लोगों का मजाक में लेना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि कुछ लोग पब्लिसिटी के लिए कुछ भी बोलते रहते हैं, ऐसे लोगों पर ध्यान नहीं देना चाहिए। नीतीश कुमार ने कहा कि किसे पता नहीं है कि भारत को आजादी कब मिली है।

बता दें कि कंगना रानाउत पर पटना में मुकदमा दर्ज कराया गया है। बिहार कांग्रेस के नेताओं की तरफ से यह मुकदमा दर्ज किया गया है इस पूरे प्रकरण को लेकर जाले के पूर्व विधायक ऋषि मिश्रा, युवा बिहार के पूर्व अध्यक्ष ललन कुमार, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष शंकर स्वरूप पासवान, कांग्रेस कमेटी के पूर्व महासचिव आसिफ गफूर, प्रवक्ता राकेश कुमार व लोकसभा पूर्व प्रत्याशी शास्रत केदार पांडे की ओर से दिए गए लिखित आवेदन के आधार पर पटना के एसके पुरी थाने में सनहा दर्ज किया गया है। साथ ही कई राज्यों में कंगना खिलाफ शिकायत दर्ज किया गया है।

बता दें कि कंगना रनौत को पद्मश्री मिलने के बाद एक मीडिया चैनल में दिए अपने इंटरव्यू में उन्होंने कहा क्यों की 1947 में देश को आजादी भीख में मिली। असली आजादी 2014 में मिली। इसके बाद कंगना सोशल मीडिया और तमाम कम्युनिकेशन के प्लेटफार्म पर ट्रोल होने लगी। इतना ही नहीं कांग्रेस कंगना पर हमलावर हैं और देश के कई हिस्सों में कंगना के खिलाफ पुतला जलाया गया है।