पटनाः बिहार सरकार (Bihar Government) में आरजेडी कोटे से कानून मंत्री बने कार्तिक कुमार ने बुधवार को इस्तीफा दे दिया है. जैसे ही उन्होंने मंत्री पद की शपथ ली तो वारंट विवाद को लेकर जमकर बवाल हुआ. उन्हें बर्खास्त करने के लिए बीजेपी (BJP) ने दबाव बनाना शुरू कर दिया था. लगातार बयानबाजी हो रही थी. इधर, कार्तिक कुमार के इस्तीफे को लेकर बीजेपी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने फिर हमला बोला है. उन्होंने आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) पर भी निशाना साधा है. 

राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने कहा कि कार्तिक कुमार ने कल रात इस्तीफा दे दिया, उनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट था. आत्मसमर्पण करने के बजाय उन्होंने पद की शपथ ली और लालू यादव के दबाव में उन्हें कानून मंत्री बनाया गया. ये था पहला विकेट, आने वाले समय में ऐसे कई और विकेट गिरेंगे.

विभाग बदलने के बाद दिया इस्तीफा

बता दें कि वारंट विवाद के बाद 30 अगस्त को कानून मंत्री कार्तिक सिंह का विभाग बदल दिया. उन्हें विधि विभाग से हटाकर गन्ना उद्योग विभाग आवंटित किया गया. काफी विवाद के बाद जारी एक अधिसूचना के अनुसार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सलाह पर राज्यपाल सचिवालय द्वारा 30 अगस्त के एक आदेश के आलोक में नया विभाग आवंटित किया गया और गन्ना उद्योग की जिम्मेदारी दी गई. इसके बाद कार्तिक कुमार ने खुद बुधवार को इस्तीफा दे दिया.

सुधाकर सिंह को लेकर भी बीजेपी हमलावर

सरकार बनने के बाद सिर्फ कार्तिकेय सिंह को लेकर ही विवाद नहीं हुआ बल्कि और भी मंत्री हैं. कृषि मंत्री सुधाकर सिंह भी आरजेडी कोटे से ही मंत्री बने हैं. इन पर भी चावल घोटाले में आरोप लगा है. सुधाकर सिंह को लेकर भी बीजेपी हमलावर है और बर्खास्त करने की मांग कर रही है.