पटना. बिहार विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने जातीय जनगणना के मुद्दे पर पिछले दिनों मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने के लिए 72 घंटे का समय मांगा था। जिसके बाद नीतीश कुमार ने बुधवार को 4:30 बजे मिलने का समय दिया और तेजस्वी यादव नीतीश के पास वार्ता करने के लिए पहुंचे। आधे घंटे से अधिक देर तक तेजस्वी यादव से मुलाकात में मुख्यमंत्री ने उनकी बातों को गौर से सुना। इस मीटिंग के बाद बाहर निकले तेजस्वी यादव ने मीडियाकर्मियों से बात करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने जातीय जनगणना कराने का आश्वासन दिया है और जल्द से जल्द सभी दलों की बैठक बुलाने की बात कही है।

तेजस्वी यादव ने कहा कि जातीय जनगणना पर कुछ काम शुरू किया जा चुका है। सीएम नीतीश कुमार की बातों पर पूरा भरोसा है। तेजस्वी ने यह भी जानकारी दी कि जातिगत जनगणना को लेकर फिलहाल उनकी यात्रा स्थगित कर दी गई है। राजद नेता ने कहा कि अगर नीतीश कुमार ने कह दिया कि जनगणना नहीं कराएंगे तो फिर सड़क पर उतरने के अलावा कोई चारा नहीं होगा। फिलहाल जब आश्वासन दिया है तो इंतजार जरूरी है।

इस बैठक के बाद दोनों (जदयू और राजद) के साथ आने की अटकलों पर तेजस्वी ने कहा कि इसका कोई राजनीतिक मतलब नहीं निकाला जाए। बता दें कि जातीय जनगणना को लेकर हाल में ही आरजेडी नेता तेजस्वी यादव  इसे राष्ट्रीय मुद्दा बनाने की तैयारी करते हुए  पटना से दिल्ली तक पैदल यात्रा करने का ऐलान किया था।

सोमवार को तेजस्वी यादव ने कहा था कि जातीय जनगणना की आरजेडी लगातार मांग करता रहा है। आरजेडी के दबाव का ही नतीजा था कि दो बार बिहार विधानसभा और विधान परिषद से प्रस्ताव पारित कर केंद्र को भेजा गया है, मगर इस पर कोई संज्ञान नहीं लिया जा रहा है। हम लोगों के पास अब कोई चारा नहीं बचा है इसलिए जातीय जनगणना कराने की मांग को लेकर वो पटना से दिल्ली तक पैदल यात्रा करेंगें। हालांकि, आज नीतीश कुमार से मुलाकात के बाद उन्होंने इसे स्थगित करने का ऐलान कर दिया है।