पटनाः आज बिहार बजट 2022-23 (Bihar Budget 2022) पेश किया गया। राज्य के वित्त मंत्री तारकिशोर प्रसाद (Finance Minister Tarkishore Prasad) ने बिहार विधानसभा में बजट पेश किया। वित्त मंत्री ने इस बार कुल 2 लाख 37691 करोड़ 91 लाख रुपये का बजट पेश किया। दावा किया गया है कि कोरोना काल में भी बेहतर बजट पेश हुआ है। लेकिन आरजेडी ने बजट को लेकर सरकार पर निशाना साधा है। आरजेडी के विधायक मुकेश रोशन ने कहा है कि बजट में बिहार के लोगों को झुनझुना थमा दिया (MLA Mukesh Roshan Reached with JhunJhuna in Assembly) गया है। बजट में रोजगार का जिक्र नहीं है। यह बजट पूरी तरह झूठा है।

बजट पेश होने के बाद बिहार विधानसभा से बाहर निकले आरजेडी विधायक मुकेश रोशन के हाथ में झुनझुना था। वे झुनझुना बजाते हुए बोले कि बिहार के लोगों को झुनझुना थमा दिया गया है। रोजगार के नाम पर युवाओं के लिए कुछ नहीं है। रोजगार के बारे में कोई बात नहीं है। यह बजट झूठ का पुलिंदा है। सरकार ने जो वादा किया था, सब झूठा निकला। अलग-अलग क्षेत्रों के लिए किए गए सारे वादे बजट में कहीं नहीं है।

आपको बता दें कि बिहार के डिप्टी सीएम सह वित्त मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने अपना दूसरा बजट सोमवार को पेश किया। उन्होंने 2 लाख 37 हजार 691 करोड़ 19 लाख रुपये का बजट पेश किया, जो पिछले बजट से 19 हजार करोड़ रुपए ज्यादा है। उन्होंने पिछले साल यानी 2020-21 में 2 लाख 18 हजार करोड़ रुपये का बजट पेश किया था। वित्त मंत्री ने सदन में बिहार के विकास का 6 सूत्रीय मॉडल पेश किया है। इस बार सरकार का फोकस शिक्षा, स्वास्थ्य, कृषि, उद्योग, ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में आधारभूत संरचनाएं और जनकल्याणकारी योजनाओं पर है।

वित्त मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने बजट कौटिल्य के अर्थशास्त्र के एक संस्कृत श्लोक से शुरू किया। उन्होंने ‘अलबद्ध लाभार्थ, लब्ध परिरक्षणी’ अर्थात जो प्राप्त न हो उसे प्राप्त करना जो प्राप्त हो गया उसे संरक्षित रखना, संरक्षित हो गया है उसे समानता के आधार पर बांटना श्लोक पढ़ा। इसके बाद उन्होंने कविता- यूं ही नहीं मिलती राही को मंजिल एक जुनून सा दिल में जगाना होता है। पूछा चिड़िया से… कैसे बना आशियाना? बोली- भरनी पड़ती है उड़ान बार-बार, तिनका-तिनका उठाना होता है। इसके साथ ही वित्त मंत्री ने इस साल बजट को 6 सूत्रों में बांट कर पूरा बजट पेश किया।

जानकारी दें कि इससे पहले भी आरजेडी विधायक ने खिलौने से बिहार की शराबबंदी पर तंज कसा था। बजट सत्र 2022 में राज्यपाल के अभिभाषण के बाद वे विधानसभा के बाहर हेलीकॉप्टर लेकर पहुंच गए। हेलीकॉप्टर प्लास्टिक का जरूर था लेकिन उनके बोल में जो कटाक्ष थे, वह पूरे बिहार में गूंज उठा था। उन्होंने कहा था कि अब सरकार शराबियों पर नकेल नहीं कस पा रही है तो ड्रोन के बाद हेलीकॉप्टर लेकर आ गयी है। तंज कसते हुए आरजेडी विधायक ने कहा था कि बिहार में एक तरफ बेरोजगारी है उस पर सरकार का ध्यान नहीं है, लेकिन फालतू चीजों पर सरकार राशि खर्च करने में लगी है। उन्होंने कहा था कि जहां से नीतीश सरकार ने हेलीकॉप्टर मंगाई है, मेरा हेलीकॉप्टर भी वहीं से आया है।