बिहार में अब लोगों को घर या अन्य निर्माण कार्य में राहत मिलने की संभावना है. प्रदेश में अब जल्द ही बालू की कीमतों में गिरावट आ सकती है. दरअसल, बिहार राज्य खनिज विकास निगम ने बचे हुए लगभग एक सौ बालू घाटों की निलामी शुरू कर दी है. ये बालू घाट पटना समेत कई अन्य जिलों में हैं. इन घाटों की निलामी होने के बाद अवैध खनन पर रोक लगेगा और अधिक मात्रा में बालू बाजार में उपलब्ध हो सकेगा. जिसका असर कीमत पर भी दिखना तय माना जा रहा है.

पटना समेत 14 जिलों में निलामी

पटना, भोजपुर, रोहतास, गया, औरंगाबाद, जमुई, लखीसराय, अरवल, बेतिया, सारण, बांका, बक्सर और किशनगंज जिले के बालू घाटों की निलामी शुरू हो गयी है.मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, बिहार खनिज विकास निगम जून से पहले इन बालू घाटों में खनन की प्रक्रिया को शुरू कराने के प्रयास में है. फिलहाल एनजीटी के आदेश के तहत तय तिथि को ध्यान में रखकर सबकुछ किया जा रहा है ताकि खनन पर रोक की अवधि में ही इसे पूरा कर लिया जाए.

बालू की कीमतों में गिरावट संभव

जिन बालू घाटों की निलामी की जा रही है उनमें खनन के कारण बाजार में मांग के मुताबिक बालू उपलब्ध हो सकेगा. जिसके कारण लोगों को बालू की कीमतों में गिरावट देखने को मिल सकता है. इन बालू घाटों की निलामी अभी तक कई अलग-अलग कारणों से रूकी हुई थी. अब पटना समेत 14 जिलों के लिए निविदा निकाल दी गयी है.

बालू माफियाओं पर लगेगा लगाम

निलामी से बचे इन घाटों में अधिकतर घाट ऐसे हैं जो अवैध खनन का अड्डा बन चुके हैं. बालू माफियाओं ने यहां ढंग से अपने पांव पसार लिये हैं. अब जब घाटों की निलामी हो जाएगी तो अवैध खनन पर भी लगाम लगेगा. बालू की कालाबाजारी पर रोक लगेगी. कीमत में कमी होने के बाद लोगों को भी घर और फ्लैट वगैरह बनाने में राहत मिलेगी. जून से पहले खनन शुरू करने के आसार हैं.