पटना: देश के पूर्व उप प्रधानमंत्री और हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री चौधरी देवीलाल की 109वीं जयंती पर आज फतेहाबाद में सम्मान दिवस रैली का आयोजन किया जा रहा है. कार्यक्रम को आयोजन सुबह 11 बजे शुरू होना था. हालांकि बीच में मौसम के खराब होने की वजह से कार्यक्रम देर से शुरू हुआ. इनेलो की सम्मान दिवस रैली में बिहार के सीएम नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव, एनसीपी प्रमुख शरद पवार, माकपा नेता सीताराम येचुरी, जेडीयू से केसी त्यागी, पंजाब के पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल रैली में पहुंचे चुके हैं.

हरियाणा में एकमात्र विधायक पर सिमटी हुई इनेलो इस रैली से तीसरे मोर्चे की संभावनाओं को जोर दे रही है. इसके लिए देश के 10 बड़े राज्य के भाजपा विरोधी नेताओं को रैली का निमंत्रण दिया गया है. हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री और इंडियन नेशनल लोक दल सुप्रीमो ओम प्रकाश चौटाला की तरफ से पूर्व प्रधानमंत्री एच. डी. देवगौड़ा, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू, बिहार के डिप्टी सीएम तेजस्वी यादव, पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल (Punjab Former CM Parkash Singh Badal), महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और एनसीपी प्रमुख शरद पवार समेत तमाम नॉन कांग्रेस नॉन बीजेपी दिग्गजों को रैली में बुलाया गया है.

ताऊ देवीलाल की जयंती पर तमाम विपक्ष के नेताओं का एक मंच पर होना निश्चित तौर पर ही कहीं न कहीं तीसरे मोर्चे के तौर पर देखा जा सकता है. इनेलो नेता अभय चौटाला कह चुके हैं कि जब एक मंच पर सभी नेता आएंगे तब तीसरे मोर्चे की बात बनेगी. वे यह भी कहते हैं कि कांग्रेस को इससे अलग नहीं रखा जा सकता है. इसके लिए भी उदाहरण देते हुए कहते हैं, कि जब चौधरी देवीलाल ने तीसरा मोर्चा बनाया था तब बीजेपी को भी साथ लिया था. वे कहते हैं कि थर्ड फ्रंट बनने की चर्चा पूरे देश में है और उनका भी प्रयास है कि हरियाणा की धरती से सभी नेता चर्चा करके बदलाव की शुरुआत करें.

बीजेपी प्रवक्ता प्रवीण अत्रे का कहना है कि थर्ड फ्रंट की बातें पहले भी होती रही हैं और अब भी हो रही हैं. थर्ड फ्रंट ना पहले सिरे चढ़ा था ना अब सिरे चढ़ेगा. वे कहते हैं कि अभी थर्ड फ्रंट को लेकर कोई बात करना जल्दबाजी होगी. जिस तरह आज के दौर में विपक्ष के हालात हैं उसे देखते हुए इसकी उम्मीद कम ही की जानी चाहिए कि वे एक झंडे के नीचे एक साथ खड़े हो.