भामाशाह पन्ना जिले निवासी सहायक शिक्षक श्री विजय कुमार चंसोरिया ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए सेवानिवृत्त के बाद असहाय व निर्धन बच्चों को शिक्षा मिल सके इस हेतु अपनी भविष्य निधि ₹40लाख दान देने का ऐतिहासिक निर्णय लिया इस हेतु विजय जी का अभिनन्दन। आपके समर्पण को प्रणाम।

दुनिया में दुखों को कोई कम नहीं कर सकता है, लेकिन हम जो कुछ अच्छा कर सकते हैं, वह हमें करना चाहिए। ये कहना है कि मध्य प्रदेश के पन्ना के रहने वाले विजय कुमार चंसोरिया का। जिन्होंने मानवता की मिसाल पेश की है। विजय कुमार एक रिटायर स्कूल टीचर हैं। जिन्होंने रिटायरमेंट के बाद कुछ ऐसा कि लोग आज इनकी मिसाल दे रहे हैं। उन्होंने अपनी पत्नी और बच्चों की सहमति से अपने सभी भविष्य निधि और ग्रेच्युटी की राशि गरीब छात्रों के लिए स्कूल को दान कर दिया।

विजय कुमार ने अपने बचपन के दिनों में काफी संघर्ष किया ताकि वह पढ़ लिखकर कुछ बन सके। जिसके लिए उन्होंने रिक्शा तक चलाया और अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए दूध बेचा। अपनी मेहनत औऱ परिश्रम से वह साल 1983 में शिक्षक बन गए। इन दिनों उन्होंने उन बच्चों को देखा तो अभाव में रहते हैं।

आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण उनकी पढ़ाई तक छूट जाती है। उन्होंने जब भी बच्चों की मदद की, उनकी खुशी देखी। बस फिर क्या थआ उन्होंने रिटायरमेंट के बाद बच्चों के लिए अपने भविष्य निधि के 40 लाख रुपए दान देने का फैसला किया, जो आज मिसाल बन चुका है।