भारतीय रेल लगातार अपनी सेवाओं में विस्तार कर रहा है। कई नए इलाकों को रेलवे रूट से जोड़ा जा रहा है तो कई जगह पुराने रेलवे ट्रैक का मरम्मत कार्य एवं आमान परिवर्तन कर उन्हें तेज रफ्तार ट्रेनों के चलने लायक बनाया जा रहा है। इसी कड़ी में पिछले 6 साल से बंद पड़े बनमनखी- बिहारीगंज रेलखंड पर जल्द ही ट्रेनों का परिचालन शुरू किया जाएगा।

सीआरएस और डीआरएम ने किया निरीक्षण

बुधवार को रेलवे के मुख्य संरक्षा आयुक्त यानी सीआरएस ने पूर्णिया के बरहरा कोठी से लेकर बिहारीगंज रेलखंड का निरीक्षण किया। सीआरएस एएम चौधरी समस्तीपुर डीआरएम (DRM) के साथ ट्रेन से पहले बनमनखी जंक्शन पहुंचे फिर वहां से वह ट्रेन से बरहरा कोठी स्टेशन पहुंचे। बड़हरा कोठी से बिहारीगंज तक पहले ट्रॉली से सफर कर ट्रैक का निरीक्षण किया, इसके बाद बिहारीगंज से ट्रेन से ही वह बनमनखी लौटे। इस दौरान 100 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड से ट्रेन चलवाकर सीआरएस ने बरहरा कोठी बिहारीगंज रेलखंड के नये ट्रैक का निरीक्षण किया।

एक महीने में शुरू हो जाएगा ट्रेनों का परिचालन

समस्तीपुर डीआरएम आलोक अग्रवाल ने बताया कि
सीआरएस का इंस्पेक्शन पूरा हो गया है। जो छोटी- मोटी कमियां थी उन्हें दूर करने का निर्देश दिया गया है। इसके बाद रेल मंत्रालय को सीआरएस की रिपोर्ट भेजी जाएगी सब कुछ ठीक रहा तो एक महीने के अंदर परिचालन शुरू हो जाएगा।

बता दें कि आमान परिवर्तन के कारण 2016 से ही बनमनखी से बिहारीगंज तक ट्रेन का परिचालन बंद था। लेकिन, 2019 में बनमनखी से बड़हरा कोठी तक मात्र 17 किलोमीटर तक ट्रेन का परिचालन शुरू किया गया था। शेष 12 किलोमीटर बरहरा कोठी से बिहारीगंज की दूरी के बीच ट्रेन का परिचालन शुरू नहीं हुआ था। अब सीआरएस के इंस्पेक्शन के बाद इस रूट पर भी जल्द ट्रेन का परिचालन शुरू होने की संभावना है। ट्रेनों के परिचालन शुरू होने के बाद इलाके के लाखों लोगों को फायदा होगा।