रूस और यूक्रेन के बीच जंग का आज बारहवां दिन है. हालात दिन प्रतिदिन बिगड़ते जा रहे हैं. इस बीच भारत सरकार के ऑपरेशन गंगा के तहत यूक्रेन में फंसे छात्रों को स्वदेश लाने का क्रम लगातार जारी है. अब तक हजारों छात्र वतन वापसी कर चुके हैं. इसी कड़ी में सारण के 26 छात्र यूक्रन से लौटे हैं. जिसमें यूक्रेन के खारकीव में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही छपरा की पूजा कुमारी भी शामिल है. पूजा की घर वापसी से परिजनों में खुशी का माहौल है

यूक्रेन से लौटी छात्रा ने कहा कि रूस के साथ यूक्रेन का संघर्ष शुरू होते ही वहां का माहौल लगातार बिगड़ता जा रहा था. ट्रेन, बस और खाने पीने के सामान पर आफत आ गई थी. हम लोग मेट्रो स्टेशन के बंकर में छिपे हुए थे. यूक्रेन में भयावह स्थिति देखते हुए हमलोगों ने डिसाइड किया कि यहां से चलाना चाहिए. पूरे शहर में बमबारी जारी थी, काफी परेशानियों के बीच हमलोग लवीस पहुंचे. शहर में काफी ठंड थी.

इन सभी परेशानियों के बीच जान पर खेलकर हम लोग किसी तरफ पोलैंड की सीमा में दाखिल हुए. पोलैंड में स्थिति सामान्य थी. वहां पर हमें खाना दिया गया, भारत सरकार द्वारा अच्छी व्यवस्था की गई थी. वहां से दिल्ली आए, दिल्ली से स्टेट गवर्नमेंट द्वारा बिहार आए. फिर वहां से हमें घर तक पहुंचाया गया

बात दें कि रूस और यूक्रेन के बीच 12 दिनों से चल रहे महायुद्ध को लेकर पूरी दुनिया टेंशन में है. जानकारी के मुताबिक आज भी रूस, यूक्रेन के कई शहरों पर बमबारी कर रहा है. खारकीव में तेज धमाकों की आवाजें सुनाई दे रही हैं. दूसरी तरफ रूसी गोलाबारी के चलते यूक्रेन के दक्षिणी शहर से लोगों को निकालने की कोशिश दूसरी बार भी नाकाम हो गई. रूसी सशस्त्र बलों ने यूक्रेनी सेना के लगभग सभी लड़ाकू-तैयार विमानों को नष्ट कर दिया है. रूसी रक्षा मंत्रालय के आधिकारिक प्रतिनिधि मेजर जनरल इगोर कोनाशेनकोव ने यह घोषणा की.