पाकिस्तान से 12 साल बाद बक्सर के छवि घर लौट आए. परिवारवालों में खुशी का माहौल है. इन वर्षों में छवि के लिए बहुत कुछ बदल चुका है. मगर मां का प्यार नहीं बदला. गले से लिपट छवि ने फूट-फूटकर रोया. ऐसे में भला मां के भी आंसू कहां रूकने वाले थे. छवि को देखने के लिए काफी संख्या में गांव के लोग भी पहुंचे थे.

बक्सर जिले के मुफस्सिल थाना क्षेत्र के खिलाफतपुर गांव के रहने वाले छवि मांझी को पाकिस्तान ने रिहा कर दिया. पंजाब होते अपने गृह जिला बक्सर को लौट आए. बक्सर लौटने के बाद उनकी खुशी देखते ही बन रही थी, 12 साल बाद परिवारवालों से मिल रहे थे. छवि को मरा समझकर परिजनों ने श्राद्ध कर्म भी कर दिया था.

पिछले साल दिसंबर में विदेश मंत्रालय को सूचना मिली कि भारत का एक युवक भटक कर पाकिस्तान पहुंच गया था और कराची जेल में बंद है बाद में कानूनी प्रक्रिया पूरी करने और लंबी लड़ाई के बाद दो दिन पहले छवि को अटारी बॉर्डर पर बीएसएफ को सौंपा गया. फिर बक्सर पुलिस उसे लेकर खिलाफतपुर पहुंची तो परिवारवालों से मिलकर काफी भावुक हो गया.