बिहार विधानसभा में बजट सत्र (Bihar Budget Session 2022) का आज 14 वां दिन है। जहां प्रशनकाल के दौरान विधायक अपने सवाल सदन में रख रहे हैं और संबंधित मंत्री उसका जवाब दे रहे हैं। इसी दौरान हंगामे के बीच चलने वाले सदन में ठहाके लगने लगे। दरअसल विधानसभा में आरजेडी नेता भाई वीरेंद्र (RJD Leader Bhai Birendra) के एक सवाल पर विधानसभा अध्यक्ष विजय सिन्हा ने उन्हें टोकते हुए कहा कि ‘फिर झमेला करवाइए गा क्या’। इस पर पूरा सदन ठहाके से गूंज उठा।

हुआ ये कि खाद्य आपूर्ति विभाग से जुड़ा एक सवाल भाई वीरेंद्र सदन में पढ़ रहे थे। जिसमें केंद्र से सब्सिडी प्राप्त करने के मामले में सवाल पूछा गया था, कि उपयोगिता प्रमाण पत्र नहीं देने के कारण बिहार को 212 करोड़ से अधिक सब्सिडी प्राप्त नहीं हुई। इस पर मंत्री लेसी सिंह ने कहा कि 2002 से ही उसका ऑडिट नहीं हुआ था, पेंडिंग पड़ा हुआ था।

‘हम लोगों ने 2014 तक का ऑडिट करवा दिया है और जुलाई तक 2021 तक का ऑडिट हो जाएगा। अंकेक्षण नहीं होने के कारण भारत सरकार से राशि नहीं मिली है। जल्द ही सभी का अंकेक्षण कराकर भारत सरकार से राशि विमुक्त करा ली जाएगी’- लेसी सिंह, खाद्य आपूर्ति मंत्री

मंत्री लेसी सिंह के जवाब पर आरजेडी विधायक ने आपत्ति जताई और कहा कि गलत तथ्य सदन में दिया जा रहा है। आरजेडी विधायक ने प्रश्न को स्थगित करने की मांग की। इसी पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि फिर से झमेला कराइए गा क्या? फिर क्या था, सदन में जोर-जोर से ठहाके लगने लगे। उसके बाद मंत्री लेसी सिंह ने कहा कि पूरे मामले को हम दिखा लेते हैं। फिर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि इसे स्थगित करते हैं और सदन को दिखा कर जवाब दे दीजिएगा।

आपको बता दें कि पिछले दिनों ही लखीसराय के मामले को लेकर सदन में सीएम और विधानसभा अध्यक्ष के बीच काफी नोकझोंक हुई। सीएम ने कहा था कि जब हमारे मंत्री ने जवाब दे दिया तो फिर बार-बार उस पर सवाल क्यों खड़े किए जा रहे हैं। मामले की जांच चल रही है। संविधान के खिलाफ कोई भी कार्य सही नहीं है। सदन ऐसे नहीं चलता है। इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने कहा था कि आप ही बता दिजीए सदन कैसे चलाएं। मामले ने काफी तूल पकड़ लिया था। बाद में सीएम और विजय सिन्हा के बीच सुलह हो गई। आज एक बार फिर खाद्य आपूर्ति से जुड़े एक सवाल को आरजेडी विधायक द्वारा स्थगित करने की मांग की मांग की गई, जिस पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि ‘फिर झमेला करवाइए गा क्या’।