हिंदू धर्म में भगवान गणेश को सभी देवों में प्रथम पूजनीय माना गया है। इसलिए किसी भी मांगलिक और शुभ कार्य की शुरुआत से पहले गणेश जी की पूजा-अर्चना की जाती है। कहा जाता है कि जहां भगवान गणेश का वास होता है, वहां पर रिद्धि, सिद्धि, शुभ और लाभ का वास भी होता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान गणेश का पूजन करने से सभी विघ्न और बाधाएं समाप्त हो जाते हैं। यदि पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ भगवान गणेश जी की पूजा की जाए तो जीवन की परेशानियों और समस्याओं का समाधान हो जाता है। आइए जानते हैं कि भगवान गणेश की पूजा से कौन से शुभ फलों की प्राप्ति होती है…  

सुख-समृद्धि की प्राप्ति
धार्मिक मान्यता है कि जीवन में सुख-समृद्धि पाने के लिए गणेश जी की पूजा करनी चाहिए। बुधवार को विधि-विधान से पूजा करने से जातक के जीवन में कभी भी परेशानियां नहीं आती हैं।

भाग्योदय
जो भी जातक गणेश जी की पूजा-अर्चना सच्चे दिल से करते हैं। बप्पा उन्हें कभी भी खाली हाथ नहीं जाने देते। भगवान की पूजा करने से भाग्योदय होता है और आरोग्य जीवन की प्राप्ति होती है। इसलिए नियमित रूप गणेश पूजा करनी चाहिए। 

मनोकामना पूर्ति के लिए  

किसी भी मनोकाना की पूर्ति के लिए नियमित रूप से गणेश जी की पूजा करें। साथ ही गणेश जी को दूर्वा और मोदक चढ़ाएं। मान्यता है कि इससे गणेश जी प्रसन्न होंगे और आपकी सभी मनोकामना पूरी करेंगे। 

बुद्धि और ज्ञान का विकास
कहा जाता है कि भगवान गणेश की पूजा करने से बुद्धि में बढ़ोतरी होती है, जिस व्यक्ति को जीवन में सफलता और तरक्की चाहिए या जो व्यक्ति बुद्धिमान बनना चाहता है उसे नियमित रूप से भगवान गणेश की पूजा करनी चाहिए।  

सहनशीलता मिलती है

गणेश जी की पूजा करने से व्यक्ति में सहनशीलता का विकास होता है। भगवान गणेश जी के बड़े-बड़े कान इसी बात का प्रतीक हैं कि व्यक्ति अधिक सुनना चाहिए और कम बोलना चाहिए। इसलिए कहते हैं कि भगवान गणेश की पूजा से इंसान अपने अंदर छिपी शक्ति पर ध्यान देने लगता है और उसमें सहनशीलता का विकास होता है। 

आत्मा की शुद्धि
यदि भगवान गणेश की श्रद्धापूर्वक पूजा की जाए, तो व्यक्ति का आत्मा शुद्ध हो जाती है। विधि विधान से पूजा करने से सभी नकारात्मक शक्तियां दूर हो जाती हैं।